शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम…

आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे